Patna : भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा मंगलवार को एक दिवसीय पटना दौरे पर आए. इस दौरान जहां उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी को सबसे बड़ा दल बनाने की अपील की वहीं उन्होंने दोहराया कि राज्य में दूसरा AIIMS दरभंगा मेंही बनेगा.

दरअसल पटना उच्च न्यायालय ने दूसरे AIIMS के मुद्दे पर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पूछा है कि आख़िर इसके निर्माण में विलंब क्यों हो रहा है. नड्डा ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के अपने कार्यकाल के दौरान दरभंगा में ही एम्स बनाने के प्रस्ताव को मंज़ूर किया था लेकिन बाद में केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे के इशारे पर इसे खटाई में डाल दिया गया था.

दरअसल एम्स का मामला इस बात पर उलझा हुआ है कि राज्य सरकार जमीन मुहैया नहीं करा रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का प्रस्ताव है कि नए एम्स के निर्माण से बेहतर होगा कि दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल का अधिग्रहण कर लें और अपनी सुविधा के अनुसार और मापदंड के अनुसार जिन भी डॉक्टरों को रखना हो या कर्मचारियों को उन्हें रखें. नहीं तो राज्य सरकार उनका किसी और मेडिकल कॉलेज में तबादला कर देगी.

क्या बिहार सरकार के पास 100 बेड का ICU बनाने के लिए भी पैसा नहीं है?
केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे येन-केन प्रकारेण एम्स को अपने पैतृक जिले भागलपुर ले जाना चाहते हैं. हालांकि नड्डा के इस वक्तव्य के बाद राज्य सरकार ने राहत की सांस ली है. उसका कहना है कि कम से कम दरभंगा के नाम पर कोई विवाद नहीं है. अब पूरा मामला इस बात पर निर्भर करता है कि केंद्र सरकार नए एम्स का निर्माण करती है या फिर नीतीश कुमार की बातों को मानकर दरभंगा मेडिकल कॉलेज को एम्स में तब्दील करने का काम शुरू करती है.