PNN India: फर्रुखाबाद जिले में मोहम्मदाबाद थाना क्षेत्र के अंतर्गत गांव कथरिया में एक शख्स ने करीब 20 बच्चों और महिलाओं को अपने घर में बंधकर बना लिया है और खुद छत पर बैठकर फायरिंग कर रहा है. शख्स की पहचान सुभाष बाथम के तौर पर हुई है, जो हत्या का दोषी है और हाल ही में पैरोल पर बाहर आया था. गुरुवार को उसने अपने बच्चे के जन्मदिन के बहाने आस-पास के बच्चों को घर में बुलाया और फिर अपनी बीवी और बच्चे समेत सभी बच्चों को बेसमेंट में बंद कर दिया. 

सूचना पर कोतवाल के पहुंचने पर उसने फायरिंग कर दी। हथगोला फेंक दिया। कोतवाल व दीवान हथगोले की गिट्टी से घायल हो गए। एसपी व विधायक की मौजूदगी में समझाने गए ग्रामीण पर सिरफिरे ने फायर कर दिया। इससे एक ग्रामीण के पैर में गोली लग गई और वह घायल हो गया। छत से कई फायर कर स्वाट टीम के दो सिपाहियों व मुखबिरी करने वाले ग्रामीण को सामने बुलाने की मांग की.

बताया जा रहा है कि सुभाष बाथम की बेटी गौरी (5) का गुरुवार को जन्मदिन था। इसमें सुभाष ने मोहल्ले के लगभग 20 महिलाओं और बच्चों को अपने घर बुलाया। जन्मदिन मनाने के बाद शाम को चार बजे उसने सभी को घर के तहखाने में बंद कर दिया। इसके बाद शराब के नशे में छत पर चढ़ कर चीखने लगा कि अब उसे पुलिस से पकड़वाने का नतीजा भुगतना पड़ेगा.

इस घटना से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है. स्थानीय लोगों ने जब पुलिस को इस बात की सूचना दी तो उसने मौके पर पहुंची डायल 100 और थाने की पुलिस पर भी फायरिंग की. बताया जा रहा है कि फायरिंग में गांव का ही एक व्यक्ति घायल भी हुआ है. 

घटना की जानकारी यूपी के डीजीपी ओपी सिंह को दे दी गई है. उन्होंने मीडिया कर्मियों को बताया कि लखनऊ से कमांडोज का एक दस्ता फर्रुखाबाद रवाना कर दिया गया है. साथ ही कानपुर के आईजी और फर्रुखाबाद के सभी थानों की फोर्स को भी मौके पर भेजा गया है. 

ओपी सिंह ने बताया कि चूंकि घर में बच्चे हैं इसलिए कोई भी कदम उठाना उनकी जान जोखिम डाल सकता है. इसलिए बाथम को गांव के प्रधान और कुछ लोगों की मदद से समझाने की कोशिश की जा रही है.