PNN/Faridabad: खाद्य भण्डारण निगम के चेयरमैन एवं विधायक नैयनपाल रावत ने कहा कि मनुष्य को गीता ग्रंथ के अनुसार अपने कर्म के प्रति इतनी सम्पर्णता के साथ कार्य करना चाहिए कि वे समाज और देश उन्नति के भागीदार बन सकें। गीता समाज के सर्वगुण संपन्न होने के लिए प्रेरणा देती है।

विधायक नैयन पाल रावत ने यह बात शोभायात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने से पूर्व उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कही. तत्पश्चात उन्होंने सैक्टर-12 के कन्वेंशन हाल में तीन दिवसीय गीता जयंती महोत्सव में लगी प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।

उन्होंने विभिन्न विभागों व सामाजिक-धार्मिक संस्थाओं द्वारा प्रदर्शनी में लगाई गई स्टाल का अवलोकन किया। कलाकारों की टीमों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।

फरीदाबाद के विधायक नरेन्द्र गुप्ता ने दीप प्रज्ज्वलन के साथ गीता जयंती महोत्सव के दूसरे दिन शनिवार को सेमिनार तथा सास्कृतिक कार्यक्रम का दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ किया।  विधायक गुप्ता ने कहा कि आज हर व्यक्ति जीवन में अनेक प्रकार की परेशानियों से जूझ रहा है। यदि हम गीता ग्रंथ का अध्ययन करें तो हमें जीवन की तमाम समस्याओं का समाधान इसके माध्यम से प्राप्त हो सकता है। हर व्यक्ति के लिए जीवन में गीता का ज्ञान प्राप्त करना बहुत जरूरी है। आमजन तक गीता ज्ञान को पहुंचाने के लिए वर्तमान प्रदेश सरकार ने इसे अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप प्रदान किया है।

उन्होंने कहा कि यहां लगाई गई प्रदर्शनी के माध्यम से आमजन को प्रदेश सरकार व विभागों की योजनाओं तथा संस्थाओं की सेवाओं के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त हो रही है तथा बच्चों के मनोरंजन का भी समुचित प्रबंध किया गया है। इसके लिए उन्होंने प्रदेश सरकार तथा जिला प्रशासन को बधाई दी। उन्होंने केंद्र व प्रदेश सरकार की विभिन्न महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी देते हुए आमजन से इनका अधिक से अधिक लाभ उठाने का आह्वान किया।

रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम में सुश्री हरलीन की टीम ने लीला नन्द लाल की प्रस्तुति दी। टीम  ने नाट्य चित्रण रूपान्तरण  के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण के जन्म से लेकर कंश वध तक की प्रस्तुति दी गई ।रागिनी गायक जनक राज ने रागिनी के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को गीता का उपदेश की प्रस्तुति दी गई।

इसके उपरांत सेमिनार में ब्रह्म कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय माउंट आबू के सूरज भाई ने गीता के सार से तनाव मुक्त जीवन पर, इस्कान के सर्वलोक नाथ दास ने गीता मे आत्मतत्व के विषय पर, सिद्धी दाता आश्रम के शकुन रघुवंशी ने गीता ग्रंथ की महता पर प्रकाश डाला और विश्व हिन्दू परिषद के प्रेम शंकर ने गीता ज्ञान के व्यवहारिक पक्ष पर बल पर प्रकाश डालकर  दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। मंच संचालन प्रवक्ता डाक्टर रूद्रदत्त शर्मा ने किया।

इस अवसर सीटीएम श्रीमती बैलीना  सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, सामाजिक-धार्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधि तथा गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।