PNN/ Faridabad: प्रदेश विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं चेयरमैन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के दिशा निर्देशानुसार एवं मोना सिंह मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्ग दर्शन में स्थानीय जिला न्यायालय परिसर सेक्टर 12 में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया।

मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मोना सिंह ने राष्ट्रीय लोक अदालत की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि जिला लोक अदालत में केसों का निपटारा करने के लिए 29 बेंच गठित किए गए थे। जिनमें जिला एवं सत्र न्यायाधीश दीपक गुप्ता, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जगभूषण गुप्ता, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वीरेंद्र प्रसाद, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वीरेंद्र मलिक, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राजेश गर्ग, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश कुमुद गूगनानी, डिस्ट्रिक्ट जज फैमिली कोर्ट अनुभव शर्मा, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जैस्मीन शर्मा, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश पुनीत सेहगल, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जगजीत सिंह, डिस्ट्रिक्ट जज फैमिली कोर्ट सुनील कुमार, एसीजेएम व अन्य जुडिशल ऑफिसर प्रथम श्रेणी फरीदाबाद कोर्ट व एस के गोयल चेयरमैन परमानेंट लोक अदालत की अगुवाई में लोक अदालत लगाई गई।

जिला लोक अदालत में कुल 5831 केस रखे गए जिनमें से 4041 केसों का निपटारा आपसी सहमति से किया गया। जिनमें विवाहित संबंधित 15 केस, बैंक रिकवरी 2234 केस, क्रिमिनल कंपाउंडेबल 340 केस, बिजली से संबंधित 700 केस, लेबर डिस्प्यूट 11केस, मोटरबाइक कल दुर्घटना 28 केस, चेक बाउंस 178 केस, दीवानी केस 82 और समरी चालान केस 453 का निपटारा किया गया।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कम जिला लीगल सेवा प्राधिकरण की सचिव मोना सिंह ने बताया कि लोक अदालत मे निपटाए गए केसों में समय की बचत होती है। केसों का निपटारा हमेशा -हमेशा के लिए हो जाता है। जिसमें ना किसी की जीत ना किसी की हार होती है। आपस में प्यार भावना और समाज में भाईचारे की भावना बढ़ती है।