एक-दो वकील और कुछ जज न्याय की जगह कर रहे हैं अन्याय: एलएन पराशर

0
13

PNN/ Faridabad: शहर की अदालत में मंगलवार भी पर्चे चिपके दिखे जिसमे लिखा गया है कि न्याय की मंदिर में कैसे हो रहा है अन्याय, ये पर्चे बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एलएन पाराशर ने चिपकाए हैं। पाराशर का कहना है कि फरीदाबाद की अदालत में अब भी सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। यहाँ अब भी गरीबों को न्याय नहीं मिलता इस कारण तमाम गरीब जेल में सड़ रहे हैं।
पर्चे में लिखा गया है कि गुरुग्राम की एक घटना ने पूरे देश को हिला दिया था जिसमे एक गनमैन ने जज की पत्नी और बेटी को गोली मार दी थी और उस घटना से फरीदाबाद के जजों से कोई सबक नहीं सीखा और अब भी कई जज अपने गनमैनों से गाड़ी चलवा रहे हैं जिसके उनके पास सबूत हैं।
पाराशर का कहना है कि अदालत में युवा वकीलों की बेज्जती की जाती है और कुछ जज सीनियर वकीलों की भी कभी-कभी बेज्जती कर देते हैं जिसके कारण उनकी आँखों में आंसू आ जाते हैं। पर्चे में पाराशर ने लिखवाया है कि यहाँ न्याय मांगने वालों को सजा दी जाती है और भ्रष्टों को इनाम दिया जाता है।
पाराशर का कहना है कि चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को बंधुआ मजदूर समझा जाता है और सेशन जज अपने घर पर भी चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को बंधुआ मजदूर की तरह काम करवाते हैं। पाराशर के मुताबिक सेशन जज खुद हाईकोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि सेशन जज अपनी सीट पर ही बैठकर ऊपर तक जमानत न होने की धमकी देते हैं। वो दर्जनों वकीलों के सामने मुझे फंसाने की धमकी दे चुके हैं। इससे पहले चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के माध्यम से मुझे झूंठे केस में फंसवाने और जान से मरवाने की धमकी दे चुके हैं जिसकी लिखित शिकायत मैंने सेन्ट्रल थाने में दी थी।
पाराशर का कहना है कि सेशन जज दीपक गुप्ता अपने एक सहयोगी जज से मिलकर गरीब व्यक्ति की फैक्ट्री पर कब्ज़ा करवा सकता है तो मुझे मरवा भी सकता है। उन्होंने कहा कि सेशन जज में हिम्मत है तो मुद्दई बन मेरे ऊपर मामला दर्ज करवाएं और मैं उनके खिलाफ सबूत दूंगा।
पाराशर का कहना है कि उनकी वजह से ही कोर्ट में एक-दो वकील और कुछ जज न्याय की जगह अन्याय कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर मुझे कुछ होता है तो सेशन जज ही इसके जिम्मेदार होंगे। उन्होंने कहा कि कोर्ट में सब जज ऐसे नहीं हैं ,कुछ ही जजों ने न्याय की मंदिर को अन्याय में बदल रखा है। इनकी वजह से ही मुझे कोर्ट के सुरक्षा कर्मी परेशान करते हैं।
पाराशर ने कहा कि फरीदाबाद में कहीं भी अन्याय हो रहा हो तो मुझे बर्दाश्त नहीं वो कोर्ट हो या कोई अन्य जगह हो। उन्होंने कहा कि न्याय की मंदिर में अन्याय नहीं रुका तो जल्द मैं दिल्ली जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करूंगा।