डेथ वैली में मिली युवती की लाश को लेकर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी

0
17

PNN/ Faridabad: सहायक पुलिस आयुक्त अपराध अनिल कुमार ने अपने कार्यालय सेक्टर-30 में आज मीडिया कर्मियों को संबोधित करते हुए डेथ वैली में मिले युवक व युवती की लाश के बारे में खुलासा किया है।

वारदात की गम्भीरता को देखते हुए सहायक पुलिस आयुक्त अपराध अनिल कुमार ने इस केस की तफ्तीश अपराध शाखा DLF फरीदाबाद को दी गई थी।

आरापियो की धरपकड़ के लिए निरीक्षक संजीव कुमार प्रभारी अपराध शाखा DLF ने एक टीम का गठन किया। जिसमे निरीक्षक संजीव कुमार, उप निरीक्षक जमील अहमद, उप निरीक्षक अश्वनी कुमार, सहायक उप निरीक्षक कप्तान, मुख्य सिपाही प्रवीन, मुख्य सिपाही ईश्वर सिंह, मुख्य सिपाही आनंद, सिपाही अनिल कुमार (साईबर एक्सपर्ट), सिपाही संदीप (ड्राईवर), सिपाही सूरज, सिपाही नसीब सम्मिलित रहे।
अनिल कुमार ने कहा कि मुकदमा में मृतक सचिन के घरवालो ने बताया की दिनांक 05.06.19 को सचिन का NIIT का रिजल्ट आया था और वह गुमसुम दिखाई दे रहा था तथा. CCTV फुटेज की सहायता से पता चला की सचिन अपने घर से अकेला ऑटो रिक्शा में जाता हुआ दिखाई दे रहा है, जिससे मृतक सचिन की मौत आत्महत्या प्रतीत हो रही है क्योकि मृतक सचिन के जिस्म पर कोई चोट का निशान भी नही था।
लेकिन पुलिस अभी तक सचिन की मौत के सम्बन्ध हत्या के ही दृष्टीकोण से जांच कर रही है और पोस्ट मार्टम में भी अभी मौत का कारण स्पष्ट नही हुआ है।

वहीं मृतका मनीषा के पिता ने पुलिस को बताया की उसकी बेटी ब्यूटी पार्लर में काम करती थी जिसकी सुरजीत और विमल के साथ दोस्ती थी कुछ दिन पहले सुरजीत के घर वालो ने सुरजीत का रिश्ता कहीं और कर दिया था इस रिश्ते का पता मनीषा को चलते ही मनीषा ने लड़की वालो के पास जाकर सुरजीत का रिश्ता तुडवा दिया था और इसी कारण सुरजीत अपने मन में रंजिस पाले हुए था और मनीषा को जान से मारने की धमकी देता रहता था।

इसके बाद सुरजीत और विमल की तलाश की गई लेकिन दोनों ही घर से भाग चुके थे जिनको सूचना के आधार पर दिनांक 22.06.19 को आरोपियान सुरजीत और विमल को पल्ला पुल फरीदाबाद से गिरफ्तार किया जो आरोपियान ने अपने दो और साथी प्रिंस उर्फ़ लाला और भीम सिंह उर्फ़ ऐनु को भी मनीषा की हत्या में शामिल होना बताया।

पूछताछ में सुरजीत ने बताया की मनीषा उसको ब्लैकमेल करती रहती थी और मनीषा ने उसका रिश्ता भी तुडवा दिया था और विमल के घर भी फ़ोन करके विमल के पिता और घर वालो को गाली देती रहती थी जिससे परेशान होकर दिनांक 09.06.19 को सुरजीत ने फ्रेंड्स कॉलोनी ओल्ड फरीदाबाद में अपने किराये के कमरे में अपने साथी विमल, लाला और ऐनु के साथ मिलकर मनीषा को जान से मारने की योजना बनाई।

दिनांक 10.06.19 को योजना के अनुसार सुरजीत और विमल गाँव एतमादपुर पुल के पास मनीषा के किराये के कमरे पर गये जहाँ पर मनीषा अकेली थी सुरजीत ने कमरे में घुसते ही मनीषा का गला दबा दिया और विमल ने दरवाजा बंद करके मनीषा के पैर पकड़ लिए और सुरजीत ने मनीषा के सिर पर मुक्के और कोहनी से चोटें मारकर और गला दबाकर हत्या कर दी और मनीषा के शव को कमरे में बने बाथरूम में ही छुपा दिया।

इसके बाद मनीषा के शव को ठिकाने लगाने के लिए चारो दोस्तों ने ओल्ड फरीदाबाद मार्किट से एक बड़ा बैग खरीदा और वापिस मनीषा के कमरे पर जाकर मनीषा के शव को उस बैग में डालकर मोटर साइकिल पर रखकर बड वाली झील अनंगपुर पहाड़ी में डाल दिया ।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि चारो आरोपियान को आज अदालत में पेश करके मृतका मनीषा के मोबाइल फ़ोन और वारदात में प्रयोग की गई दो मोटर साइकिल और बाकी सामान की बरामदगी हेतु और गहनता से पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर लिया जायेगा।

झील में मिली युवक व युवती की लाश का आपस में कोई संबंध नही

क्राइम ब्रांच प्रभारी इंस्पेक्टर संजीवनी ने बताया कि अब तक की तफ्तीश से मृतक सचिन की मौत और मृतका मनीषा की हत्या के बीच कोई सम्बन्ध नही पाया गया है। मृतक सचिन की मौत के बारे अलग से जाँच की जा रही है।

आपको बताने चले कि दिनांक 13.06.2019 को बड वाली झील अनंगपुर में एक लड़के का शव पानी में तैरता हुआ और एक लड़की का शव बैग में मिला था जिस पर मुकदमा न० 357 Dt. 13.06.2019 U/S – 302, 201 IPC थाना सूरजकुंड फरीदाबाद अंकित किया गया था। दोनों शव काफी फुले हुए थे। जिनको को निकालकर पोस्टमार्टम हेतु पीजीआईएमएस रोहतक भेजा गया था।

पोस्टमार्टम के बाद दोनों शवों को बीके हॉस्पिटल में पहचान के लिए रखा गया था जिसमे लड़के के शव की पहचान सचिन पुत्र सुभाष निवासी पर्वतीय कॉलोनी फरीदाबाद के रूप में हुई थी।

पोस्टमार्टम के बाद सचिन का शव को अंतिम संस्कार हेतु उसके परिवारजनों के हवाले किया और लड़की के शव को पहचान के लिए BKH फरीदाबाद शव गृह में रखा गया जिसकी पहचान दिनांक 19.06.19 को मनीषा निवासी फरीदाबाद के रूप में हुई थी।