जल शक्ति अभियान की की गयी समीक्षा

0
7

PNN/ Faridabad: भारत सरकार मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स के ज्वाइंट सेक्रेटरी दर्पण जैन ने जिला के जल संरक्षण के तहत चलाए जा रहे जल शक्ति अभियान की समीक्षा की। समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए ज्वाइंट सेक्रेटरी दर्पण जैन ने कहा कि जिला में आबादी के अनुरूप पेयजल आपूर्ति और खेती योग्य भूमि पर जल सिंचाई व्यवस्था बनाए रखने के लिए भविष्य में की जाने वाली गतिविधियों को सभी प्रशासनिक तथा तकनीकी अधिकारी आपसी तालमेल बनाकर कार्य करें। उन्होंने एक-एक करके जल शक्ति अभियान बारे विभिन्न विभागों के अधिकारियों से जानकारी लेकर दिशा उन्हें दिशा निर्देश भी दिए। उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने केन्द्रीय जल शक्ति अभियान समीक्षा टीम को जिला में जल सरक्षण के तहत जल शक्ति अभियान की गतिविधियों बारे विस्तार पूर्वक जानकारी दी।

जैन ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि केंद्र सरकार वर्षा के जल संरक्षण व जल प्रबंधन के लिए सरकार गंभीरता से कार्य कर रही है। इसके लिए सभी विभागों के अधिकारी यथा शीघ्र जल संरक्षण बारे अपने अपने विभाग के सभी स्रोतों की जानकारी उपायुक्त कार्यालय में देना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सभी विभागों के अधिकारी जलशक्ति अभियान पर गंभीरता से कार्य करें। जिस विभाग को जो दायित्व दिया जाए उसे निर्धारित समयावधि में पूरा करना सुनिश्चित करें। हर विभाग अपना-अपना जल संरक्षण के प्लान तैयार करके उपायुक्त कार्यालय में यथा शीघ्र देना होगा।

उपायुक्त ने कहा कि जल शक्ति अभियान में अधिक से अधिक लोगों को शामिल करके जल सरक्षण अभियान को जन आंदोलन का रूप दिलवाने में सभी विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों को आपस में तालमेल बनाकर इसे क्रियान्वित करना है।उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे वर्षा के पानी को सभी सरकारी इमारतों में संक्षण करने के प्रावधान करना सुनिश्चित करें और इस बारे अपने -अपने विभाग की प्लान बनाकर उपायुक्त कार्यालय में देना सुनिश्चित करें।

समीक्षा बैठक में एमसीएफ कमिश्नर अनिता यादव, अतिरिक्त उपायुक्त धर्मेंद्र सिंह, एसडीएम फरीदाबाद सतबीर मान, एसडीएम बल्लभगढ़ त्रीलोकचंद, एसडीएम बड़खल कम सीटीएम बैलीना, एमसीएफ के चीफ इन्जीनियर डी के भास्कर, डीडीपीओ राकेश मोर, जिला शिक्षा अधिकारी सतिन्द्र कौर, पंचायती राज, एमसीएफ,हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण, सिंचाई, जनस्वास्थ अभियान्त्रिकी विभागों के कार्यकारी अभियंता और वन सहित बैठक से जुड़े सभी विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।