अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने फरीदाबाद में रोटी बैंक का किया उद्घाटन

0
16

PNN/ Faridabad: अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, साउथ रेंज रेवाड़ी, श्रीकांत जाधव ने आज पुरानी पुलिस चौकी सेक्टर-17 नजदीक मॉडल टाउन स्कूल फरीदाबाद में रिबन काटकर रोटी बैंक का उद्घाटन किया। इस दौरान डीसीपी सेंट्रल लोकेंद्र कुमार, इंस्पेक्टर अनिल कुमार एवं रोटी बैंक फरीदाबाद के अन्य संस्थापक मौजूद रहे।
इस मौके पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने कहा कि हरियाणा पुलिस के जवानों की यह पहल शायद भारत में पुलिस की पहली ऐसी पहल है जिसमें पुलिस द्वारा जरूरतमंद, असहाय गरीब लोगों को खाना मुफ्त में वितरित किया जाता है।

उन्होंने फरीदाबाद के सेक्टर एवं सोसाइटी में रहने वाले लोग अगर रोटी बैंक में खाना देने के इच्छुक हैं तो फरीदाबाद पुलिस की गाड़ी उस सेक्टर एवं सोसाइटी में जाकर वहां से खाना लेकर रोटी बैंक सेक्टर-17 में जमा कराएगी जहां से चिन्हित की हुई जगह पर खाना ले जाकर जरूरतमंद गरीब लोगों को खाना बांटा जाएगा।
गरीब जरूरतमंद, बेसहारा बच्चों, बुड्ढों, बूढ़ी महिलाओं को रोटी बैंक सेक्टर 17 फरीदाबाद में सुबह 11 बजे से 12:00 बजे तक रोटी वितरित की जाएगी।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने बताया कि फरीदाबाद में खोले गए रोटी बैंक का दो तरह से संचालन किया जाएगा, जैसे कि यदि कोई भी व्यक्ति गरीब बेसहारा लोगों की खाना खिलाने के लिए मदद करना चाहता है तो वह अपने घर से रोटी बनाकर रोटी बैंक सेक्टर 17 में दे सकता है।

इसके अलावा कोई भी इच्छुक व्यक्ति अपनी इच्छा के अनुसार रोटी बैंक के बचत खाता संख्या 91 90 100 54 94 22 33 आईएफएससी कोड नंबर UTIB0003112 पैन नंबर AADAR6827N Bank branch Axis Bank sector 15 Faridabad में डोनेट कर सकता है।

श्रीकांत जाधव ने कहा कि हरियाणा पुलिस के जवानों के द्वारा किए गए ऐसे कार्यों से जवानों की समाज के प्रति जिम्मेदारी और संवेदना झलकती है।

उन्होंने बताया कि अगर फरीदाबाद के लोग खुशी के मौके जैसे कि (शादी, पार्टी, जन्मदिन एवं अन्य) पर अपनी इच्छा अनुसार दाल, चावल, आटा एवं नगदी के रूप में दान कर सकते हैं।

आपको बताते चलें कि फरीदाबाद में रोटी बैंक हितेश अरोड़ा, इंस्पेक्टर अनिल कुमार, मोहिंदर खुराना एवं राजेश ठाकुर के सहयोग से खोला गया है।

मदर टेरेसा के इस वाक्य से प्रेरणा लेकर हरियाणा पुलिस ने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्रीकांत जाधव की पहल पर सबसे पहले रोटी बैंक की शुरुआत मधुबन करनाल से की थी। उसके बाद रोटी बैंक कुरुक्षेत्र, नारनौल, रेवाड़ी पुलिस के द्वारा भी इसकी शुरुआत की गई।