PNN India: चीन में आजकल एक रहस्यमई बीमारी फैली हुई है. जर्मनी की एक लैब ने इस बीमारी का पता तो लगा लिया है लेकिन चीन से जापान और थाईलैंड गए दो लोगों में भी इस बीमारी के लक्षण पाए गए हैं. इसके बाद भारत ही नहीं दुनियाभर के देश अलर्ट हो गए हैं.

क्या है यह बीमारी?

चीन (China) में बड़े पैमाने पर लोग एक गंभीर बीमारी (Unknown Disease) से धड़ाधड़ बीमार हो रहे हैं. खतरे की बात ये भी है कि चीन के कई पड़ोसी देशों में भी इसके पहुंचने की खबरें आ रही हैं. नोवेल कोरोना वायरस से फैल रही ये बीमारी भारत में नहीं पहुंचे, इसके लिए सरकार अलर्ट हो गई है. अब एयरपोर्ट पर चीन से आने वाले लोगों की खास जांच करेगी.
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एहतियाती उपाय के तौर पर चीन से आ रहे यात्रियों की दिल्ली, मुंबई और कोलकाता हवाई अड्डों पर थर्मल स्कैनर से जांच करने का निर्देश दिया है. सरकार ने एक ट्रैवल एडवाइजरी भी जारी की है. इसमें कहा गया है कि अगर आप चीन जा रहे हैं तो कौन से एहतियाती उपाय आपको करने चाहिए. चीन में ये बीमारी दिसंबर के आखिरी हफ्ते से फैल रही है. पहले तो वहां डॉक्टरों को समझ में ही नहीं आया कि निमोनिया की तरह लगने वाली ये संक्रामक बीमारी है क्या. बाद में जर्मनी के वैज्ञानिकों ने इस बीमारी के वायरस का पता लगाया. बकौल उनके ये नोवेल कोरोना वायरस है. ये वायरस पहली बार चीन में ही दिखा है.
चीन में ये बीमारी दिसंबर के आखिरी हफ्ते से फैल रही है. पहले तो वहां डॉक्टरों को समझ में ही नहीं आया कि निमोनिया की तरह लगने वाली ये संक्रामक बीमारी है क्या. बाद में जर्मनी के वैज्ञानिकों ने इस बीमारी के वायरस का पता लगाया. बकौल उनके ये नोवेल कोरोना वायरस है. ये वायरस पहली बार चीन में ही दिखा है.

रहस्यमई बीमारी का लक्षण निमोनिया जैसा

चीन से आने वाले हवाई यात्रियों को मुंबई के छ्त्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट (CSMIA) पर थर्मल जांच से गुजरना होगा. विशेषज्ञों की मानें तो चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर में निमोनिया जैसे दिखने वाली बीमारी के तेजी से फैलने की घटना के बाद यह फैसला लिया गया है. इस बीमारी के लिए नोवेल कोरोना वायरस (एनसीओवी) जिम्मेदार है, जिसकी चपेट में आने से तेज बुखार आता है और सांस लेने में दिक्कत होने लगती है.

मुंबई में एयरपोर्ट हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (APHO) की टीम ने चीन से आने वाले यात्रियों के लिए हेल्थ काउंटर शुरू किया गया है और थर्मल स्कैनर लगाए गए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की एडवाइजरी के बाद से एहतियात के तौर पर चीन से मुंबई यात्रा करने वाले यात्रियों को थर्मल जांच से गुजरना होगा. अगर किसी यात्री में नोवेल कोरोना वायरल के लक्षण पाए जाते हैं, तो एयरपोर्ट  हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की टीम की सलाह के मुताबिक तत्काल अस्पताल ले जाया जाएगा. एयरपोर्ट इसको लेकर रोजना अपनी रिपोर्ट भी साझा करेगा.
चीनी अधिकारियों के मुताबिक यह एक अलग तरह का वायरस है. नोवेल कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए छ्त्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट में 7 एंबुलेंस, 4 एडवांस लाइफ सपोर्ट और 3 बेसिक लाइफ सपोर्ट को तैनात कर दिया गया है. वहीं, इस वायरस के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार भी अलर्ट हो गई है.

केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन भी नोवेल कोरोना वायरस से मौत होने की खबर सामने आने के बाद स्थिति की निकटता से समीक्षा कर रहे हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने प्रयोगशाला जांच, निगरानी, संक्रमण रोकथाम और नियंत्रण से जुड़े लोगों को निर्देश दिया है.