PNN India: सरकार ने शहरों की घनी बस्तियों में कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम और नियंत्रण के लिए अब स्थानीय नेताओं और धर्मगुरुओं का सहारा लेने का फैसला किया है। ये लोग अपने क्षेत्रों में लोगों को लॉकडाउन के नियमों का सही तरीके से पालन करने के लिए समझाएंगे। साथ ही बीमारी की गंभीरता को लेकर भी उन्हें जागरूक करेंगे। सरकार को लगता है कि स्थानीय लोग इनकी बातें आसानी से समझ जाएंगे, क्योंकि स्थानीय नेताओं पर वो ज्यादा भरोसा करते हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी नए दिशानिर्देशों में यह भी कहा गया है कि शहरी बस्तियों में एक विशेष कमांडर नियुक्त किया जाएगा। उसे बस्ती में महामारी के प्रकोप की स्थिति में जरूरी व्यवस्था लागू करने के लिए योजना, संचालन, रसद और वित्त का काम सौंपा जाएगा। वह उस क्षेत्र के नगर आयुक्त को रिपोर्ट करेगा।

दिशानिर्देशों में कहा गया है कि शहरों की घनी बस्तियों में, जहां छोटे-छोटे कमरों में एक साथ कई लोग रहते हैं, कोरोना जैसी महामारी फैलने पर शारीरिक दूरी और आइसोलेशन को लागू कर पाना चुनौतीपूर्ण काम है। इसलिए शहरी निकायों को पहले से ही ऐसे हालात से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर लेने की जरूरत है। इसी क्रम में सामुदायिक नेताओं को भी जागरूकता अभियान में शामिल करने का सुझाव दिया गया है। इसमें कहा गया है, ‘आबादी में कोविड-19 को लेकर जागरूकता फैलाने में सामुदायिक समूह बहुत अहम है।

कोविड-19 की रोकधाम और नियंत्रण से जुड़े सभी पहलु के बारे में लोगों को समझाने के लिए स्थानीय (राजनीतिक, धार्मिक और वैचारिक) नेताओं का इस्तेमाल बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि लोग इन पर ज्यादा भरोसा करते हैं।’