PNN India: कोरोना वायरस के मामले देश में बढ़ते जा रहे हैं और 21 दिनों के लॉकडाउन से आम लोगों को काफी परेशानी भी हो रही है. इस बीच इस महामारी के मसले पर कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है और कोरोना वायरस को लेकर चिंता व्यक्त की है. सोनिया गांधी ने लॉकडाउन के फैसले को सही बताया है, लेकिन इसी के साथ आम मजदूरों के लिए पैकेज के ऐलान की बात कही है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखी चिट्ठी में सोनिया गांधी ने लिखा कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए 21 दिनों के लॉकडाउन का फैसला जो किया गया है वो स्वागत योग्य कदम है, ऐसे में हर कोई इस संकट में देश के साथ खड़ा है, लेकिन इसी के साथ ही देश में हेल्थ के साथ-साथ इकॉनोमी के लिहाज से संकट काफी बड़ा है.

सोनिया गांधी ने अपनी चिट्ठी में कुछ मांगें भी लिखी हैं और तुरंत एक्शन लेने की अपील की है.

1. जो डॉक्टर कोरोना वायरस से निपटने में लगे हुए हैं, उनके लिए तुरंत N95 मास्क और हैज़मैट सूट का इंतजाम किया जाना है. सरकार ने कोरोना से निपटने के लिए 15 हजार करोड़ रुपये स्वास्थ्य सेवाओं के लिए दिए हैं.

2. डॉक्टरों के लिए रिस्क अलाउंस का ऐलान होना चाहिए. 1 मार्च से लेकर अगले 6 महीने तक इसे लागू किया जाना चाहिए.

3. एक ऐसे पोर्टल और फोन नंबर की व्यवस्था की जाए, जहां पर कोरोना को लेकर सारी जानकारी उपलब्ध हो. देश के उन सभी अस्पतालों की जानकारी आम लोगों तक पहुंचाई जानी चाहिए, जहां इसका इलाज हो रहा है.

4. कोरोना के संकट को देखते हुए सरकार को टेंपपरेरी अस्पताल बनाने चाहिए, आईसीयू और वेंटिलेटर की व्यवस्था भी तुरंत की जानी चाहिए.
5. केंद्र सरकार को दिहाड़ी मजदूर, फैक्ट्री लेबर, मनरेगा वर्कर, समेत अन्य गरीब लोगों को सीधे आर्थिक मदद पहुंचानी चाहिए. ये मदद सीधे उनके बैंक खाते में जानी चाहिए.

6. सरकार को किसानों की फसलों की MSP बढ़ानी चाहिए और अगले 6 महीनों तक किसी भी तरह की रिकवरी को रोक देना चाहिए.

7. केंद्र सरकार को तुरंत न्याय जैसी योजना लागू करनी चाहिए, जनधन अकाउंट के जरिए 7500 की मदद लोगों को देनी चाहिए.

8. गरीब परिवार को 10 KG. गेंहू देनी चाहिए, अगले 21 दिनों को देखते हुए इसकी पूर्ति करना जरूरी है.

9. नौकरी पेशा लोगों की सभी ईएमआई 6 महीने के लिए टाल देना चाहिए. इसके अलावा लोन की किश्तों को भी रोक देना चाहिए.

10. उद्योग जगत के लिए टैक्स रिलीफ जैसे ऐलान होने चाहिए. छोटे कारोबारियों पर फोकस करते हुए जल्द राहत का ऐलान होना चाहिए.