PNN India: पूरी दुनिया इस समय  कोरोना के कहर से जूझ रही है। कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ चीन के वुहान शहर में जन्मे इस वायरस का असर चीन में कम हो रहा है मगर दूसरी तरफ चीन के यूनान प्रांत से खबर आ रही है कि यहां एक व्यक्ति की हंता (Hanta virus) नाम के वायरस से मौत हुई है। रिपोर्ट्स के अनुसार, इस नए वायरस की वजह से चीन में एक शख्स की मौत हो गई है। सोशल मीडिया पर भी लोग इस वायरस के बारे में खूब सर्च कर रहे हैं।

बताया जा रहा है कि पीड़ित शख्स काम करने के लिए बस शाडोंग प्रांत जा रहा था। बस में उसके साथ सवार अन्य 32 लोगों की भी जांच की गई है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबर टाइम्स के हवाले से दी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि इस घटना की जानकारी देने के बाद सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है।

हंता वायरस आखिर है क्या

कोरोना वायरस की तरह हंता वायरस घातक नहीं है। विशेषज्ञों का मानना है कि यह कोरोना की तरह हवा यानि सांस के जरिए नहीं फैलता है। इसके साथ ही यह चूहे या फिर गिलहरी के संपर्क में आने वाले इंसान को संक्रमित करता है।

सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक चूहों के कारण हंता वायरस के संक्रमण का खतरा रहता है। अगर कोई स्वस्थ्य व्यक्ति भी हंता वायरस के संपर्क में आता है तो उसके भी संक्रमित होने का खतरा रहता है।

हालांकि हंता वायरस एक शख्स से दूसरे में नहीं जाता, लेकिन यदि कोई व्यक्ति चूहों के मल, पेशाब आदि को छूने के बाद अपनी आंख, नाक और मुंह को छूता है तो उसके इस वायरस से संक्रमित होने का खतरा रहता है।

इससे संक्रमित शख्स को बुखार, सिर दर्द, शरीर में दर्द, पेट में दर्द, उल्टी, डायरिया हो सकता है। इस तरह के लक्षण वाले संक्रमित शख्स के इलाज में देरी होने पर फेफड़ों में पानी भर जाता है, जिससे उसे सांस लेने में परेशानी होने लगती है।

क्या वाकई जानलेवा है हंता वायरस?

हंता वायरस जानलेवा है। अगर इलाज में देरी होती है तो संक्रमित इंसान के फेफड़े में पानी भी भर जाता है, उसे सांस लेने में परेशानी होती है।सीडीसी के मुताबिक इससे संक्रमित 38 फीसदी मरीजों की मौत हो जाती है।

चीन में हंता वायरस का यह मामला ऐसे समय सामने आया है जब पहले से ही पूरी दुनिया में कोरोना वायरस अपना प्रकोप दिखा रहा है।

कोरोना को संयुक्त राष्ट्र पहले ही वैश्विक महामारी घोषित कर चुका है। कोरोना वायरस से अब तक दुनियाभर में 16 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। पूरी दुनिया में 3 लाख 82 हजार से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हुए हैं। कोरोना वायरस 196 देशों में फैल चुका है।