PNN/ Faridabad: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, फरीदाबाद ने जेसी बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी वाईएमसीए विश्वविद्यालय फरीदाबाद में (वाईएमसीए) में ली जा रही प्रैक्टिकल की अनावश्यक फीस को वापस लेने हेतु ज्ञापन दिया गया व ई-विरोध शुरू किया गया.

बता दें कि 16 मई 2020  को विश्वविद्यालय द्वारा एक पत्र जारी किया गया जिसमें प्रोजेक्ट और थीसिस के नाम पर ऑनलाइन प्रैक्टिकल कराने हेतु विद्यार्थियों से फीस की मांग एमटेक की गई की विद्यार्थियों से 3000 व एमबीए, बीबीए के विद्यार्थियों से 1000 रुपए फीस जमा कराने हेतु कहा गया। इससे पूर्व प्रैक्टिकल के लिए कभी फीस नहीं ली गई।

विद्यार्थी परिषद का कहना है कि एक तरफ जहां करोनावायरस जैसे महामारी के कारण लॉकडाउन की स्थिति में छात्रों के परिवार आर्थिक हालातों से जूझ रहे हैं, दूसरी तरफ विश्वविद्यालय द्वारा जारी फरमानों की पूर्ति विद्यार्थी कहां से करें।

एबीवीपी ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा जारी इस आदेश को जल्द से जल्द वापस लिया जाए। एबीवीपी ने  विद्यार्थीयों के साथ मिलकर सोशल मीडिया के माध्यम से E-Strike शुरू किया गया है।