PNN/ Faridabad: लॉकडाउन के बाद घरों में लॉक हुए खिलाड़ियों को अब तनाव से दूर रखने के लिए इंटरनेशनल खिलाड़ी खुद स्क्रीन पर उतर आए हैं। जूम एप की सहायता से 150 से अधिक खिलाड़ियों को टिप्स दिए जा रहे हैं। यह मोटिवेशनल कार्यक्रम रविंद्र फागना क्रिकेट एकेडमी की ओर से आयोजित हो रहा है।

बीसीसीआई लेवल वन कोच धर्मेंद्र फागना ने बताया कि उनके मोटिवेशनल कार्यक्रम से घर में बैठे-बैठे ही खिलाड़ियों को कई ऐसे टिप्स मिल जाएंगे जो उनके मैदान में काफी काम आएंगे। धर्मेंद्र फागना ने बताया कि मोटिवेशनल कार्यक्रम में आज चार इंटरनेशनल खिलाड़ियों ने जूनियर खिलाड़ियों को बल्लेबाजी और गेंदबाजी के बेहतरीन टिप्स दिए।

मोटिवेशनल कार्यक्रम में भारतीय स्पिनर कुलदीप यादव ने खिलाड़ियों को बताया कि नेट पर अभ्यास करते हुए हमेशा अपने आपको चैलेंज देना चाहिए। ताकि मैच में मुश्किल परिस्थिति में भी आप गेंदबाजी कर सको। उन्होंने कहा कि कई गेंदबाज केवल बेसिक गलतियों को सुधारने के लिए नेट पर लगातार गेंदबाजी करते हैं। इसके बावजूद वह मैच में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं। इसका सबसे बड़ा कारण यही होता है कि उन्होंने चैलेंजिंग परिस्थिति में गेंदबाजी करने का अभ्यास नहीं किया। उन्होंने अपना अनुभव बताते हुए कहा कि मैदान पर जब गेंदबाजी करते थे तो बल्लेबाज को चैलेंज देकर खिलाते थे।

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहित शर्मा ने कहा कि सफलता के लिए आपके पास विभिन्नता होनी चाहिए। केवल एक ही तरह की गेंद करने से आपको बल्लेबाज की गलती का इंतजार करना पड़ेगा। जबकि आपके पास कई तरह की गेंद होगी तो बल्लेबाज गलती करने के लिए मजबूर हो जाएगा।

ऑलराउंडर  खिलाड़ी ऋषि धवन और राहुल तेवतिया ने भी जूनियर खिलाड़ियों से अपना अनुभव साझा किया उन्होंने संयुक्त रूप से कहा कि एक अच्छे खिलाड़ी की निशानी उसकी फिटनेस होती है। वहीं अच्छी फिटनेस से बल्लेबाजी और गेंदबाजी के साथ क्षेत्ररक्षण भी बेहतर होता है। इसलिए कई बार बड़े खिलाड़ी अगर बल्लेबाजी और गेंदबाजी में फेल हो जाते है तो क्षेत्ररक्षण से टीम को जिताने का प्रयास करते हैं। इसलिए सभी खिलाड़ियों को लॉकडाउन के समय अपनी फिटनेस को मजबूत करने का पूरा प्रयास करना चाहिए।