एवीएम के विरोध में बसपा नेताओं ने निकाली बाइक रैली

0
11

PNN/ Faridabad: बहुजन समाज पार्टी ने हरियाणा के 22 जिलों में बाईक रैली करके ईवीएम का विरोध किया और भारत से ईवीएम को बंद करने की मांग की। जिला फरीदाबाद में यह रैली पूरे लोकसभा क्षेत्र में सभी 9 विधानसभाओं में निकाली गई। फरीदाबाद विधानसभा की बाईक रैली को बाटा फ्लाईओवर के पास राम नगर से निकाला गया जिसका शुभारंभ लोकसभा प्रभारी मनोज चौधरी और लोकसभा प्रभारी टीकम सिंह नीली झंडी दिखाकर किया। यह रैली जिले की 5 विधानसभओं से होते हुए वापस बीके चौक पर समाप्त हुई।
इस अवसर पर बसपा नेताओं ने कहा देश में ईवीएम बंद करके बैलेट पेपर से वोटिंग करवाई जाएं। उन्होने कहा अमेरिका जैसे कई विकसित देशों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के प्रयोग को अपनाया था, मगर बाद में उसे रिजेक्ट कर दिया। आज अमेरिका में भी वोट बैलेट पेपर से डाले जाते हैं, क्योंकि हैकिंग होने के कारण जनता का विश्वास ईवीएम से उठ गया था। बीएसपी के जिला सचिव सरदार उपकार सिंह ने बताया अमेरिका ने ईवीएम बंद करा दी तो फिर भारत देश में ईवीएम को क्यों चला रखा है। उन्होने कहा ईवीएम के कारण भारत पर आज वो लोग सरकार चला रहे हैं जिनकी आवादी मात्र 3 प्रतिशत है। जबकि 85 प्रतिशत वाले लोग चुनाव प्रचार करने और अच्छा बहुमत होने के बाद भी बुरी तरह हार रहे हैं।
बसपा फरीदाबाद जिला प्रभारी रतनपाल चौहान ने कहा भारत के सरकारी विभागों में ठेकेदारी कर दी गई है जिसमें युवा मेहनत तो करते है, लेकिन उनको पूरा मेहनताना नहीं मिलता। गरीबों और मजदूरों के लिए ऐसे नीयम बनाये जा रहे हैं जो उनको गुलामी की ओर ले जाएगा। उन्होने कहा बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने देश में जाति और धर्म की बात करके जनता को गुमराह किया है। वह विकास की बात केवल दिखावे के लिए करते हैं जबकि धरातल पर कुछ नहीं दिखता। आज अमीर और अधिक अमीर हो रहा है और गरीब काम न होने के चलते बेकार घूम रहा है।
इस अवसर पर जिला जिला अध्यक्ष चौधरी रतिराम ने सभी कार्यकर्ताओं की मेहनत की सराहना की। उन्होने कहा जब तक भारत से ईवीएम को हटा नहीं देंगे तब तक बसपा का यह आंदोलन अब रूकेगा नहीं और सडक से संसद तक ईवीएम को हटाने की आवाज गूंजेगा।
बाईक यात्रा में सरदार उपकार सिंह, हाजी करामात अली, मनोज पंडित, नीरज प्रेम, अमन गौतम, अनिल, ओम प्रकाश, मोहनलाल, ओमसिंह, मुकेश, यादराम, जगदीश, धर्मेंद्र, राकेश सहित सैकडों कार्यकर्ता मौजूद थे।